Story and Poem
एक बार पढ़े जरूर
1322
Sunday, 10 June 2018 02:15 PM
Yogesh
आज राजेश और पल्लवी के घर ख़ुशी का माहौल था और हो भी क्यों नहीं आज 5 साल बाद उनके घर बेटे का जन्म जो हुआ है | दोनों उसका नाम सोचने में लग गए और finally उसका नाम रखा गया लक्ष्य | राजेश और पल्लवी अपनी संतान के बारे में कई सपने भी देख रखे हैं वो दोनों ने पहले से ही सोच रखा है वो अपने बेटे को Doctor बनाएंगे | जैसे ही लक्ष्य 4 साल का हुआ उसका admission शहर के अच्छे School में करा दिया गया | लक्ष्य बचपन से ही बहुत ही अच्छी Painting बनाता | किसी को यकीन ही नहीं होता की ये पेंटिंग 4 साल के बच्चे ने बनायी...Read More
मार्बल और मूर्ति
5791
Sunday, 03 July 2016 12:53 PM
yogesh joshi
एक ट्रक में मारबल का सामान जा रहा था, उसमे टाईल्स भी थी , और भगवान की मूर्ती भी थी ...!! रास्ते में टाईल्स ने मूर्ती से पूछा .. "भाई ऊपर वाले ने हमारे साथ ऐसा भेद-भाव क्यों किया है?" मूर्ती ने पूछा, "कैसा भेद भाव?" टाईल्स ने कहा, "तुम भी पथ्थर मै भी पथतर ..!! तुम भी उसी खान से निकले , मै भी.. तुम्हे भी उसी ने ख़रीदा बेचा , मुझे भी.. तुम भी मन्दिर में जाओगे, मै भी ... पर वहां तुम्हारी पूजा होगी ... और मै पैरो तले रौंदा जाउंगा.. ऐसा क्यों?" मूर्ती ने बड़ी शालीनता से जवाब दिया, "तुम्हे जब तराशा गया...Read More
जन्म पत्रिका के अनुसार मेरा राजा बनने का योग
6063
Wednesday, 24 February 2016 08:14 PM
Nitin Kumar Sharma
एक बार एक राजा ने विद्वान ज्योतिषियों और ज्योतिष प्रेमियों की सभा बुलाकर प्रश्न किया कि
"मेरी जन्म पत्रिका के अनुसार मेरा राजा बनने का योग था मैं राजा बना , किन्तु उसी घड़ी मुहूर्त में अनेक जातकों ने जन्म लिया होगा जो राजा नहीं बन सके क्यों ? इसका क्या कारण है ?
राजा के इस प्रश्न से सब निरुत्तर होगये. क्या जबाब दें कि एक ही घड़ी मुहूर्त में जन्म लेने पर भी सबके भाग्य अलग अलग क्यों हैं । सब सोच में पड़ गये । अचानक एक वृद्ध खड़े हुये और बोले महाराज की जय हो !
आपके प्...Read More
Copyright © 2010-16 All rights reserved by: City Web